Homeलव टिप्स

सच्चे प्यार को कैसे भुलाएँ

दोस्तों प्यार भगवान् का एक बहुत ही प्यारा और अनमोल तोहफा है. प्यार बहुत तरह के भाव में हो सकता है अपने माता-पिता प्रति प्यार, अपने बच्चे, किसी अच्छे दोस्त, अपने partner के प्रति प्यार. जब आपको किसी के साथ भी बहुत ज्यादा प्यार होता है तो आप उस व्यक्ति के साथ बहुत ही attachment होता है और आप कभी भी उस व्यक्ति से दूर जाना नहीं चाहते लेकिन अगर किसी वजह से आपको उस व्यक्ति से दूर जाना पड़ गया या वो व्यक्ति आपसे दूर चला जाए तो आपको बहुत दुःख होता है. ये आपको उस व्यक्ति के गुज़र जाने के बाद, उसके किसी दूसरी जगह में चले जाने की वजह से या फिर उसका आपके साथ रिश्ता तोड़ने की वजह से भी हो सकता है.

forget your lover

सच्चे प्यार को भुलाने के तरीके

अगर आपकी girlfriend या फिर आपके boyfriend ने आपको छोड़ दिया है तो हम जानते हैं की ये सिचुएशन कितनी दर्दनाक हो सकती है. क्योंकि ये दर्द सहना सबसे मुश्किल होता है. माता-पिता अगर आपसे नाराज़ हो फिर भी मान जाते हैं मगर अगर आपका पार्टनर आपको छोड़ दे या आपसे नाराज़ हो जाए तो ये ज़रूरी नहीं है की वो मान ही जाए. दोस्तों अगर आपके lover ने आपको छोड़ दिया है और आप दिन रात उसके बारे में सोचते रहते हैं तो ये सही नहीं है. आपको इस दर्द से बाहर निकलना होगा और सच्चाई को स्वीकार करना होगा. आज के अपने इस आर्टिकल में हम आपको बताएँगे की कैसे किसी की याद को भुलाया जाए. (forget someone remembrance)

1. अपनी भावनाओं को निकलने दें

अपनी भावनाओं को दिल में ही दबे न रहने दें उन्हें बाहर निकालें जिसके लिए आप writting का सहारा भी ले सकते हैं. आपके मन में जो कुछ भी हो अपनी सारी भावनाओं को एक किसी कॉपी पर लिखना शुरू कर दें. ऐसा करने से आप अपने अंदर की भड़ास को भी बहरा निकल सकते हैं जिससे आपका मन शांत होगा और साथ ही आप अपनी भावनाओं को लिखने में इतने बिजी हो जाएँगे की आपका अपने दुःख की तरह ध्यान ही नहीं जाएगा.

2. किताबें पढ़ना शुरू करें

आप किसी पुस्तक को पढ़ना शुरू कर दें जैसे रोमांटिक, जासूसी, हंसी-मज़ाक या जासूसी वाली. ऐसा करने से आपकी रूचि अन्य बातों से हटकर उस किताब पर हो जाएगी. आप रोज़ाना अपने फ्री समय में कहानी या उपन्यास पढ़ने की आदत बना लें. आप चाहें को किसी के महान पुरुष की चरित्र-चित्रण करने वाली किताब भी पढ़ सकते हैं. धीरे-धीरे आपको ये किताबें बहुत अच्छी लगने लगेगी और इससे आपके चरित्र का भी विकास होने लगेगा.

3. अपने बारे में बुरा न सोचें

अपने आप को दोष देने से को फ़ायदा नहीं है. ऐसा न सोचें की आपमें कोई कमी है और आपको ऐसा पार्टनर दुबारा नहीं मिलेगा. आपने आपको किसी से कम न समझें. आपको उससे भी अच्छा पार्टनर मिलेगा. अपने दिल को ये समझाएँ की वो आपके प्यार के लायक ही नहीं था. अच्छा हुआ की आपका रिश्ता शादी तक पहुँचने से पहले ही आपको सब पता चल गया.

4. उसकी बुरी आदतों पर फोकस करें

अगर आपको उसकी यादों को अपने दिल से भुलाना बहुत ही मुश्किल हो रहा है तो आप उन बातों को याद कीजिए जो आपको उसमें सबसे ख़राब लगती थी. उन पलों को याद करें जब उसने आपको सबसे ज्यादा तकलीफ़ दी थी. यकीं माने ऐसा करने से आपके लिए उसे भुलाना आसन हो जाएगा.

5. आगे बढ़ें

आगे बढ़ने का नाम ही ज़िन्दगी है जो हुआ उसे भूलकर अपनी ज़िन्दगी में आगे बढ़ें. आप अपने आपको गम की यादों में न रखें. किसी बंद कमरे में बैठकर रोने से और लोगों से मिलना-जुलना छोड़ने से कुछ भी मिलने वाला नहीं है बल्कि ऐसा करने से आपकी तनहाइयाँ ही आपको डसने लगेगी. इसलिए सबसे मिलना-जुलना शुरू कीजिए. अपनी लाइफ को हस के एन्जॉय कीजिए.

6. प्रियजनों के साथ अपना दुःख बाँटें

वैसे तो आपके नज़दीकी लोग आपकी भावनाओं को नहीं समझ पाएँगे की आप किस सिचुएशन में हैं मगर आपके कुछ ऐसे खास दोस्त होंगे जिनके साथ आप अपना दुःख बाँट सकते हैं और वो आपको सहारा देंगे तो आपका दुःख थोड़ा कम हो जाएगा क्योंकि दुःख बाँटने से कम कम होता है.

7. दोस्तों और परिवार वालों को समय दें

आपका खाली समय ही वो समय होता जब आपको अपने पार्टनर की सबसे ज्यादा याद आती है तो कोशिश करें की आप उस खाली समय को अपने परिवार या किसी अच्छे दोस्त के साथ बिताएँ. ऐसा करना से आप अपने नज़दीकी प्रियजनों को समय भी दे पाएँगे और अपने दिल से उन बुरी यादों को बाहर निकालने में भी कामयाब हो जाएँगे.

8. किसी तरह की कोई जल्बाज़ी न करें

किसी भी प्रकार की जल्दबाज़ी न करें. अपने आप को इस दर्द से उबरने का पूरा मौका दें. समय हर घाव भर देता है और इस दर्द से बाहर निकलने का कोई शोर्टकट नहीं है अगर आप अपने पार्टनर के साथ सच्चे प्यार में थे.

9. सकारात्मक सोच रखें

अपने सोच को सकारात्मक बनाए रखें. आपकी भावनाएँ आपकी मानसिकता पर हावी नहीं होनी चाहिए. हमेशा अपने आप को पॉजिटिव रखें, हँसते रहें और हमेशा सुखद पलों को ही याद रखें. उन पलों को याद रखने का कोई फायदा नहीं जिनके बार में सोचकर आप आप नकारात्मक हो जाएँ और उदास रहें.

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *